10th & 12th Pass Breaking News : मेडिकल क्षेत्र मे भविष्य बनाने के लिए सरकार ने दिया सुनहरा मौका

10th & 12th Pass Breaking News : यदि आप मेडिकल क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, और आपका भी सपना है खुद को डांक्टर, नर्स या मेडिकल की फील्ड में देखना तो सरकार आपके लिए बहुत अच्छा कदम उठानें जा रही है मेडिकल विभाग में शामिल होकर जो युवा अपना कैरियर इसमें बनाना चाहते हैं। उनके लिए यह एक बेहद अच्छी खबर है। उत्तर प्रदेश सरकार नर्सिंग, पैरामेडिकल से संबंधित कालेजों को खोलने की तैयारी में है । सरकार ने क्या कदम उठाए हैं इसके लिए आइये आपको इस खबर से रूबरू करवाते है।

medical college news

UP Medical Colleges

यूपी में नर्सिंग और पैरामेडिकल कोर्स में दाखिले की उम्मीद लगाए बैठे छात्र-छात्राओ के लिए अच्छी खबर है कि प्रदेश में 300 नए नर्सिंग, पैरामेडिकल काँलेजों मे इस साल से दाखिले होंगे। मानको को परखने  के बाद चिकित्सा शिक्षा विभाग ने इनकाँलेजों को मान्यता दे दी है। यहां इसी शैक्षिक सत्र से दाखिले होंगे। वहीं लखनऊ में कहीब 30 काँलेज खुल रहे है।

कोरोना की वजर से बीतेदो साल से प्रदेश में नर्सिंग और पैरामेडिकल काँलेज नहीं खुल पाए थे। इस दौरान नए कालेज खोलने के लिए लगातार आवेदन आ रहे थे। दो साल के दौरान 1160 कालेंजों ने आवेदन किया था। चिकित्सा शिक्षा विभाग ने टीमें बनाकर कांलेजों के मानको को परखने का सिलसिला शुरू किया । चिकित्सा शिक्षा विभाग महानिदेशक 300 कांलेजों ने सभी मानक पूरे किए थे।

आठ से दस कोर्स की पढ़ाई 

महानिदेशक ने बताया कि नर्सिंग, पैरामेडिकल कांलेजों में करीब आठ से दस तरह के कोर्स को मान्यता दी गई है। बता दें कि ज्यादातर कालेजों में हर कांलेज में 10 से 50सीटें है। इस तरह करीब चार हजार सीटें है।

200 कालेंज आवेदन से मुकरे

200 कालेजों ने आवेदन के बाद निरीक्षण कराने से मना कर दिया । ऐसी दशा में इनका निरीक्षण नहीे हो सकता। महानिदेशक डां. एनसी प्रजापति ने बताया कि ज्यादातर पश्चिम पूर्वांचल जिलों के कालेजों ने निरीक्षण से मना किया है।

समय से दिक्कतें दूर की तो मान्यता की रास्ता साफ

चिकित्सा शिक्षा विभाग को करीब 660 कांलेजों में मानक पूरे नहीं मिले है। डां. एनसी प्रजापतिने बताया कि ज्यादातर कांलेजों में छोटी – मोटी कमियां है. जिन्हें दो माह में दूर करने के लिए कहा गया है। यदि समय में कालेंज आपत्तियों को दूर कर देंगे तो इनमें भी दाखिले का रास्ता साफ हो जाएगा। इसका भयदा दूर-दराज के छात्र-छात्राओँ को मिलेगा। प्रशिक्षित स्टाफ सरकारी और प्राइवेट संस्थान में तैनात होंगे।

अपने प्रश्न पूछे
frontpage hit counter