Hindi Grammar PDF Hindi Vyakaran PDF (हिन्दी ग्रामर नोट्स)

Hindi vyakaran pdf में हिंदी व्‍याकरण के सभी तथ्‍यों को विस्‍तार से दिया गया हैं Hindi Grammar PDF Download कर सकते है, नीचे दिए महत्वपूर्ण हिन्दी व्याकरण डाउनलोड करे जिसमे बहुत से हिन्दी विषय से बहुत सी प्रतियोगी परीक्षाए जैसे – SSC, BANK, RAILWAY, IAS, PCS, Railway, Police Etc. Competitive Exams के लिए Hindi Vyakaran pdf notes download कर सकते है, नीचे दिए लिंक के माध्यम से उपलब्ध नोट्स को डाउलनोड करें।

HINDI GRAMMAR PDF

Hindi Grammar PDF Notes In Hindi (हिंदी व्याकरण)

सबसे पहले नीचे दिए गए लेख मे आप पढ सकते है, की हिन्दी व्याकरण होता क्या ? अर्थात हिन्दी व्याकरण की परिेभाषा से शुरुआत करते है, नीचे दिए गए कुछ लेख को आपको ध्यानपूर्वक पढना ज्यादा उचित रहेगा क्योकी उपलब्ध जानकारी हिन्दी ग्रामर अर्थात Hindi Vyakran के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

मनुष्य मौखिक एवं लिखित भाषा में अपने विचार प्रकट कर सकता है और करता रहा है किन्तु इससे भाषा का कोई निश्चित एवं शुद्ध स्वरूप स्थिर नहीं हो सकता। भाषा के शुद्ध और स्थायी रूप को निश्चित करने के लिए नियमबद्ध योजना की आवश्यकता होती है और उस नियमबद्ध योजना को हम व्याकरण कहते हैं।
परिभाषा- व्याकरण वह शास्त्र है जिसके द्वारा किसी भी भाषा के शब्दों और वाक्यों के शुद्ध स्वरूपों एवं शुद्ध प्रयोगों का विशद ज्ञान कराया जाता है।

English Grammar PDF Download

भाषा और व्याकरण का संबंध- कोई भी मनुष्य शुद्ध भाषा का पूर्ण ज्ञान व्याकरण के बिना प्राप्त नहीं कर सकता। अतः भाषा और व्याकरण का घनिष्ठ संबंध हैं वह भाषा में उच्चारण, शब्द-प्रयोग, वाक्य-गठन तथा अर्थों के प्रयोग के रूप को निश्चित करता है।व्याकरण के विभाग- व्याकरण के चार अंग निर्धारित किये गये हैं-
  1. वर्ण-विचार
  2. शब्द-विचार
  3. पद-विचार
  4. वाक्य विचार

Contents: Bhasha; Varn Vichaar; Shabd Vichaar; Sangya; Upsarg aur Pratyya; Ling; Vachan; Karak; Sarvnaam; Visheshan; Kriya; Vachya; Kaal; Avvya; Sandhi; Samas; Vakya; Viraam Chinha; Anek Shabdo ke liye ek Shabd; Vipreetharthak Shabd; Shrutisum Bhinnarthak Shabd; Paryaayvachi Shabd; Ekarthak Shabd; Anekarthak Shabd; Sankshepan; Muhaavra; Kahavatein athva Lokoktiyaan; Vartani-Sambandhi Ashudhiyaan; Vakya-Sambandhi Ashudhiyaan; Patrachaar; Alankaar; Pallavan ya Bhaav-Vistaar; Hindi Anuvaad; Chhand; Aadhunik Bhashayein; Hindi Sahitya ki Pramukh Pravartiyaan evam Visheshtaayein; Hindi Sahitya ki Nai Vidhaayein; Prasidh Rachnayein evam Rachnakaar; Prasiddh Bharatiya Kavi, Lekhak evam Bhashayein.

Hindi Grammar Book PDF हिन्दी व्याकरण

नीचे हमने उपलब्ध Hindi grammar PDF Notes मे जो भी कुछ हिन्दी व्याकरण से सम्बन्धित उपलब्ध है, उसे नीचे टापिक के माध्यम से आपके लिए लिख दिया है, जिसमे अपनी जरुरत के हिसाब से उपलब्ध टापिक को पढ सकते है।

Hindi Grammar PDF Download

Book Name:  हिंदी व्याकरण
Quality: Excellent
Format: PDF
Size: 7 MB
Author: Harish Acedmy
Pages: 47 Page
Language: Hindi हिन्दी

Hindi Grammar PDF Download

तो कैसी लगी आपको हमारी hindi grammar pdf download इसके बारे मे हमे जरुर बताए तथा उपलब्ध जानकारी को Hindi vyakaran pdf  download मे पढ सकते है, तथा किसी अन्य विद्यार्थीयो तक इसे Share भी जरुर करें।

Hindi Grammar Questions Answer

प्रश्न➜शब्द किसे कहते हैं?

उत्तर➜वर्णो के सार्थक समूह को शब्द कहते हैं।

प्रश्न➜वाक्य किसे कहते हैं?

उत्तर➜शब्दों के सार्थक समूह को वाक्य कहते हैं।

प्रश्न➜रचना की दृष्टि से वाक्य के कितने भेद है?

उत्तर➜रचना की दृष्टि से वाक्य के तीन भेद है।

प्रश्न➜व्याकरण के अनुसार शब्दों के कितने भेद हैं?
उत्तर➜व्याकरण के अनुसार शब्दों के पांच भेद हैं –

  1. संज्ञा
  2. सर्वनाम
  3. विशेषण
  4. क्रिया
  5. अव्यय

प्रश्न➜अर्थ की दृष्टि से वाक्य के कितने भेद है?

उत्तर➜अर्थ की दृष्टि से वाक्य के आठ भेद है।

प्रश्न – एक से अधिक उपसर्गों से बना शब्द है
(a) असुरक्षित (b) अत्याचार (c) अधकचरा (d) पर्यावरण (Ans : d)

प्रश्न – निम्नलिखित में से इच्छार्थक वाक्य है
(a) सौरभ को बुलाओ। (b) तुम्हारा मंगल हो।
(c) तुमने सुना होगा। (d) आज विद्यालय में अवकाश है। (Ans : b)
प्रश्न –  शुद्ध वाक्य छाँटिए 
(a) राम को अनुत्तीर्ण होने की आशंका है। (b) राम को अनुत्तीर्ण होने का शक है।
(c) जंगल में प्रात:काल के समय बहुत सुहावना दृश्य होता है। (d) मेरे से मत पूछो। (Ans : a)
प्रश्न बुद्ध के पूर्व जन्मों की कथाएँ ………. कथाएँ कहलाती हैं।
(a) नैतिक (b) श्रावक (c) जातक (d) तात्विक (Ans : c)

लिंग का शाब्दिक अर्थ है – ‘चिह्न अथवा पहचान’
शब्द का वह रूप जो पुरुष – जाति या स्त्री – जाति का बोध कराता है, उसे लिंग कहते हैं |

  • मोर नाच रहा है
  • चिड़ियाँ पेड़ की डाल पर बैठी है
  • राम बैठा है
  • सीता बैठी है

Hindi Grammar Book PDF Download

error: कृपया उचित स्थान पर क्लिक करें