भारत की नदियो के बारे मे परीक्षाउपयोगी प्रश्न (Indian Rivers)

Hello Students, आज हम आपको लिए कुछ ऐसे महत्वपूर्ण प्रश्नो और जानकारीयो को आपके साथ लेकर आए है, जिससे किसी भी परीक्षा मे ऐसे प्रश्न जरुर पूछे जाते है, और अच्छे नंम्बर लाने मे बहुत कार्यगर है, आप नीचे दिए 13 नदीयो के बारे मे महत्पूर्ण जानकारी Tips आपको बताएगे जिसे ध्यान से पढने पर किसी भी आगामी परीक्षा मे यहॉ से 1 प्रश्न जरुर आ सकते है, तो नीचे दिए भारत की नदियों के बारे में जानकारी प्राप्त करे और अच्छे नंम्बर प्राप्त करने मे सफल हो।exam related all comptetive exams ke liye rivers questions

सिन्धु नदी के बारे मे

sindhu nadi ki puri jankari

  • सिंधु नदी को इंडस नदी भी कहा जाता है। इस नदी का उद्गम तिब्बत स्थित मानसरोवर झील से हुआ है।
  • सिंधु नदी तिब्बत, India & pakistan में बहते हुए अरब सागर में मिल जाती है।
  • सिंधु नदी की कुल लंबाई लगभग 2880 Km. है तथा यह भारत में 992 Km. लम्बी है।
  • सिंधु नदी की प्रमुख सहायक नदियों झेलम , चेनाब , रावी , व्यास एवं सतलज है ।

झेलम नदी के बारे में

jhelam nadi ki puri janakari

  • झेलम नदी का उद्गम कश्मीर घाटी की शेषनाग झील के निकट बेरनाग नामक स्थान से हुआ है।
  • वूलर झील में मिलने के बाद यह Pakistan में प्रवेश करती हैं तथा चेनाब नदी में मिल जाती है।
  • झेलम नदी की की कुल लंबाई 724 Km. है एवं भारत में इसकी लंबाई 400 Km. है

व्यास नदी के बारे में

चेनाब नदी के बारे में

  • चेनाब नदी हिमाचल प्रदेश के लाहौल के बारालाचा दर्रे से निकलती हैं।
  • यह पीर पंजाल के समांतर बहते हुए किशतबार के निकट पीर पंजार में गहरा गार्ज बनाती है।
  • भारत में चेनाब नदी की लंबाई 1180 किमी है।
  • यह पाकिस्तान में जाकर सतलज नदी में मिल जाती है।

रावी नदी के बारे में

  • रावी नदी हिमाचल प्रदेश के रोहतांग दर्रे से निकलती है एवं पाकिस्तान के मुल्तान के समीप चेनाब नदी में मिल जाती है।
  • इस नदी की लंबाई 720 किमी है।

सतलज नदी के बारे में

  • सतलज नदी का उद्गम तिब्बत स्थित मानसरोवर झील के निकट राक्षसताल से हुआ है।
  • यह नदी अपने उद्गम स्थल से 1500 किमी दूरी तय करके पाकिस्तान में चेनाब नदी में मिल जाती है।
  • भारत में सतलज नदी की लंबाई 1050 किमी है।
  • प्रसिद्ध भाखड़ा – नागल बांध सतलज नदी पर ही बना है।

गंगा नदी के बारे में

  • गंगा नदी का उद्गम उत्तराखण्ड के गोमुख हिमनद के निकट गंगोत्री ग्लेशियर से हुआ है।
  • वास्तव में अलखनन्दा तथा भागीरथी नदी के देवप्रयाग मिलने पर यह गंगा नदी कहलाती है।
  • इलाहाबाद के निकट गंगा से यमुना मिलती है जिसे संगम या प्रयाग कहा जाता है।
  • गंगा नदी दक्षिण – पूर्व की ओर बहते हुए बांग्लादेश में प्रवेश करती है जहां इसे पद्मा कहा जाता है।
  • बांग्लादेश में समुद्र में मिलने से पहले ब्रह्मपुत्र नदी से मिलती है तो इसका नाम मेघना हो जाता है।
  • गंगा नदी की कुल लंबाई 2525 किमी है तथा भारत मे इसकी लंबाई 2510 किमी है ।
  • गंगा नदी पश्चिम बंगाल मे विश्व प्रसिद्ध सुंदरवन का डेल्टा का निर्माण करती है।
  • गंगा नदी की प्रमुख सहायक नदी यमुना, सोन, रामगंगा, घाघरा, कोसी, गंडक, इत्यादि हैं।

यमुना नदी के बारें में

  • यमुना नदी गंगा नदी की प्रमुख सहायक नदी है ।
  • इस नदी का उद्गम उत्तराखण्ड के यमुनोत्री नामक ग्लेशियर से हुआ है जो बंदरपूछ पहाड़ी पर स्थित है।
  • यमुना नदी के किनारे दिल्ली, मथुरा तथा आगरा जैसे बड़े शहर बसे हुए हैं।
  • यह लगभग 1375 किमी का सफर तय करके इलाहाबाद के निकट प्रयाग में गंगा नदी में मिल जाती है।
  • यमुना नदी की प्रमुख सहायक नदियों में टोंस , चम्बल, बेतवा , केन , तथा काली सिंध आदि शामिल हैं।
  • यमुना नदी को भारत की सबसे अधिक प्रदूषित नदी माना जाता है ।

चम्बल नदी के बारे में

  • चम्बल नदी मध्यप्रदेश के इन्दौर जिले मे स्थित महू के निकट जानापाओ पहाड़ी से निकलती है।
  • यह नदी मध्यप्रदेश राजस्थान होते हुए उत्तर प्रदेश के इटावा जिले मे यमुना नदी में मिल जाती है।
  • चम्बल नदी की लंबाई लगभग 950 किमी है।
  • यह नदी बीहड़ों ( गड्ढे) का निर्माण करती है।

घाघरा नदी के बारे

  • इस नदी का उद्गम मापचाचुंग ग्लेशियर से हुआ है जो तिब्बत के पठार मे स्थित हैं।
  • यह नेपाल के मध्य से बहती है।
  • हिमालय तथा शिवालिक श्रेणियों को पार करते समय यह राशिपानी नामक स्थान पर गहरी संक्रीर्ण घाटी का निर्माण करती है।
  • घाघरा नदी बिहार मे छपारा के पास गंगा नदी मे मिल जाती है।
  • इस नदी की लंबाई लगभग 1200 किमी है।

गोमती नदी के बारे में

  • गोमती नदी का उद्गम उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले से हुआ है।
  • उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ इसी नदी के किनारे बसा हुआ है।
  • यह गाजीपुर के निकट गंगा नदी मे मिल जाती है

गण्डक नदी के बारे में

  • इस नदी का उद्गम नेपाल, तिब्बत की सीमावर्ती पर्वत श्रंखलाओ से हुआ है।
  • नेपाल में इस नदी को शालीग्रमी तथा नारयणी नाम से जाना जाता है।
  • उत्तर प्रदेश तथा बिहार की सीमा मे बहते हुए यह नदी पटना के पास गंगा नदी में मिल जाती है।
  • गण्डक नदी की लंबाई लगभग 425 किमी है।

कोसी नदी के बारे में

  • कोसी नदी का उद्गम प्रारंभिक रुप में सात धाराओ से हुआ जो नेपाल, हिमालय तथा कंचनजंगा पर्वत से निकलती है।
  • इन धाराओ मे सबसे बड़ी धारा का नाम अरुण है जो माउंट एवरेस्ट के पास से निकलती है।
  • बिहार के मैदानी भागों मे बहते हुए यह नदी भागलपुर जिले मे गंगा नदी मे मिल जाती है।
  • कोसी नदी की लंबाई लगभग 750 किमी है।
  • कोसी नदी अपने मार्ग परिवर्तन एवं भयंकर बाढ़ के लिए कुख्यात है।

इन्हे भी पढे>

 

Related Post
error: कृपया उचित स्थान पर क्लिक करें