आम खाने वालो सावधान आम से कैंसर, सर्वाइकल का खतरा खाद्य विभाग को जारी की रिपोर्ट

आज के समय में आम एक ऐसा फल है जिसके चाहने वाले की संख्या ना कभी कम हुई है ना कभी कम होगी ऐसे में विश्व भर में आम खाने के शौकीन बहुत ही अधिक संख्या में लेकिन अभी हाल ही में मीडिया रिपोर्ट द्वारा एक बहुत ही बड़ा खुलासा किया गया क्योंकि आम में कैंसर का खतरा ज्यादा हो रहा है आईए जानते हैं एक बहुत ही बड़ी रिपोर्ट जो है मीडिया के सामने आई है ऐसे में समय रहते आपको इस आम के मौसम में इन जानकारी का पता होना अति आवश्यक है वरना बहुत बड़ा पछतावा आपको होगा।

MANGO LOVERS PLEASE ATTENTION
MANGO LOVERS PLEASE ATTENTION

आम खाने वालो सावधान

रासायनिक की सहायता से आपको पता होगा आम पकाए जाते हैं ऐसे में पकाए गए आमों में प्रयोग होने वाले कुछ रासायनिक पदार्थ हैं इसकी वजह से कैंसर सर्वाइकल व स्किन सहित बीमारियां होती है लेकिन अभी हाल ही में एक बड़ी रिपोर्ट में दावा किया है कि मिलावटी वह लगने वाले केमिकल एक बहुत ही बड़ी मात्रा में प्रयोग की जा रहे हैं जिसमें कच्चे आमों को बहुत ही कम समय बहुत ही तेजी से पका दिया जाता है, जिसके बाद उसका खाने वाला व्यक्ति बहुत तेजी से बीमार भी हो रहे हैं।

खाद्य विभाग की टीम ने जॉच की

ऐसे में जयपुर की टीम ने अभी हाल ही में एक मंडी में आम के फलों की जांच की जांच में पता चला उसमें प्रयोग किए जाने वाले केमिकल जिस वजह से आम पकाया जाता है वह पूर्णता शारीरिक नुकसान पहुंचाने में कारगर ऐसे मेंउसे रसायन के द्वारा पके हुए आम को जो भी व्यक्ति खाता उन्हें कैंसर हुआ और एलर्जी का खतरा बहुत ही तेजी से बढ़ जाता है अधिकतर रोड पर आपने देखा होगा आम बकते रहते हैं लेकिन वह आम को पकाने की प्रक्रिया सभी की अलग-अलग रहती है।

सुप्रीम कोर्ट ने FASSAI को नोटिस जारी किया

अभी हाल ही में एफएसएसएआई द्वारा आम के फलों के लिए चेतावनी जारी किए गए जिसमें कार्बाइड से फल को पकाया जाता है यानी कैल्शियम कार्बोनेट का इस्तेमाल के माध्यम से ही फल को बहुत ही तेजी से पकाए जाते हैं, ऐसे मे सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए खतरनाक रसायनो के इस्तेमाल को लेकर केंद्र, कृषि मंत्रालय व FASSAI को नोटिस भी जारी किया है।

Follow Google News Click Here
Whatsapp Group Click Here
Youtube Channel Click Here
Twitter Click Here

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.