Online Payment New Rule : आनलाइन पेमेंट करने वाले ध्यान दें सरकार ने बदल दिया नियम

आपको बता दें कि अगर आप किसी भी ऑनलाइन यूपीआई एप का इस्तेमाल कर रहे हैं। तो आपको उस एप से यूपीआई द्वारा कितनी राशि तक किसी को भी भेज व प्राप्त कर सकते हैं। अगर ऐसे में आपको राशि की सीमा नहीं पता है तो सबसे पहले आपका लेनदेन पूरा नहीं होगा। और ऐसे में आपको नुकसान भी उठाना पड़ सकता है। और देश में ऑनलाइन के माध्यम से करोड़ों लोग अपना लेनदेन करते है तो इससे करोड़ो लोग यूपीआई से प्रभावित हो सकते हैं। हालही में एनपीसीआई द्वारा पैसो के लेन देन के लिए निर्धारित सीमा को तय किया गया है। और इसका मुख्य कारण यह भी हो सकता है। कि आप किस यूपीआई एप के द्वारा अपना भुगतान कर रहे है। क्योंकि सभी के लेनदेन की सीमा तय की गई है।

online payment new rule
online payment new rule

Online Payment Latest Update

यानी की आपको इसमे कई तरह के फायदे भी मिलेगे जिसमे सरकार ने करीब 2600 करोड रूपए के प्रोत्साहन इंसेंटिव्स का एलान किया है। रूपए कार्ड के जरिए डिजिटल पेमेंट पर 0.4 फीसदी का इंसेंटिव दिया जाएगा। भीम यूपीआई के जरिए इंडस्ट्री के यूज के लिे होने वाले डिजिटल पेमेंट जैसे इंश्योरेंस मुचुआल फण्ड, ज्वैलरी, पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स और अन्य सेगमेंट के लिए ये इंसेंटिव 0.15 फीसदी का तय किया गया है। केन्द्रीय कैबिनेट के इस फैसले के तहत बैंको को भी फाइनेशियल इंसेंटिव दिए जाएंगे। ऐसे मे हम आपको बता दे की भूपेंद्र यादव ने बताया कि यूपीआई पेमेंट के जरिए होने वाले ट्रांजेक्शन की संख्या दिसंबर मे 12 लाख करोड रूपए तक आ गई थी। जो की देश की कुल जीडीपी का करीब 54 फीसदी के आसपास बैठता है।

Online Payment New Rule

Amazon Pay के माध्यम से भुगतान करने वाले एक लाख रुपये तक भेज सकेंगे। किसी भी बैंक से अधिकतम 20 ट्रांजेक्शन कर सकता हैं। Paytm app के अनुसार अब आप सिर्फ 20 हजार रुपये प्रति घंटे का ट्रांजेक्शन कर सकते हैं। Phone Pe ने भी अब प्रतिदिन 1 लाख रुपये की यूपीआई लेनदेन सीमा निर्धारित की है। ग्राहक फोन पे यूपीआई के माध्यम से प्रतिदिन अधिकतम 20 ट्रांजेक्शन कर सकता है। Google Pay ऐप के जरिए पेमेंट करने वालों के लिए सिर्फ 10 ट्रांजेक्शन की सीमा है। इसलिए अब से भुगतान करते समय सावधान रहें। आप अधिकतम 1 लाख रुपये तक भेज सकते हैं।

Join Telegram GroupJoin Now
WhatsApp GroupJoin Now

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.