PM Kisan Yojana : पीएम किसान योजना 11वीं किस्त अटक सकती है 31 मार्च से पहले करें ये काम बहुत बडी खबर

PM Kisan Samman Nidhi Yojana : यहां पर बहुत बड़ी खबर निकलकर आ रही कि पीएम किसान सम्मान योजना के तहत जिन किसान भाईयों का अभी तक e kyc नहीं करवाया है। उन किसान भाईयों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ मिलने में हो सकती है मुश्किल, तो आपको बता दें कि अभी तक अगर आप लोगों ने अपनी E-KYC नहीं कराया है तो तुरंत अपनी ई- केवाईसी को पूरा करें। ताकि आप अपना लाभ आराम से उठा सकते हैं।

pm kisan yojana news

PM Kisan Yojana E KYC Big News

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ उठाने के लिए देश के करोड़ों किसान 22 मई, 2022 तक ई-केवाईसी प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं। अभी इसकी अंतिम तारीख 31 मार्च थी। किसान पोर्टल के जरिए ई-केवाईसी कर सकेंगें। इसके राशन कार्ड और अन्य दस्तावेज पोर्टल पर अपलोड करने होंगे।

इस योजना के तहत सरकार ने अब तक 10 बार किसानों के खाते में पैसा भेजा है। 11 वीं किस्त अप्रैल के पहले हफ्ते तक किसानों के खाते में आएगी। योजना के तहत सरकार किसानों को हर साल 6000 रूपये की मदद देती है।

पीएम किसान निधि योजना की 10वीं किस्त का इंतजार कर रहे 12 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसानों के लिए बड़ी खबर है। पीएम किसान सम्मान निधि योजना 2022 में मोदी सरकार ने बड़ा बदलाव किया है। अप्रैल में पहले सप्ताह तक जारी होने वाली अगली किस्त का पैसा आपको तभी मिलेगा जब आप ई- केवाईसी पूरा कर लेंगें। इसके बिना आपकी किस्त लटक सकती है। सरकार ने इस योजना में ये अनिवार्य कर दिया है। सरकार ने योजना में रजिस्टर्ड किसानों के लिए ई- केवाईसी आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया है। पोर्टल पर कहा गया है। कि आधार आधारित ओटीपी प्रमाणीकरण के लिए किसान कॅार्नर में ई- केवाईसी विकल्प पर क्लिक करें, और बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के लिए निकटतम सीएससी केंद्रों में संपर्क करें। वैसे आप घर बैठे ही अपने मोबाइल, लैपटोप या कंप्यूटर की मदद से इसे पूरा कर सकते हैं।

इन्हें नहीं मिलेगा लाभ

अगर परिवार में कोई टैक्सपेयर है. परिवार का आशय पति -पत्नी और अवयस्क बच्चे से है। जो लोग खेती की जमीन का इतेमाल कृषी कार्य की जगह दूसरे कामों में कर रहें हैं। बहुत से किसान दूसरों के खेतों पर किसानी का काम तो करते हैं। लेकिन खेत के मालिक नहीं होते, यदि कोई किसान खेती कर रहा है। लेकिन खेत उसके नाम नहीं है। अगर खेत उसके पिता या दादा के नाम है। अगर कोई खेती की जमीन का मालिक है, लेकिन वह सरकारी कर्मचारी है या रिटायार हो चुका हो, मौजूद या पूर्व सांसद, विधायक, मंत्री, प्रोफेशनल रजिस्टर्ड डॅाक्टर, इंजीनियर, वकील, चार्टर्ड अकाउंटेट या इनके परिवार के लोग, कोई व्यक्ति खेत का मालिक है लेकिन उसे 10,000 रूपये महीने से अधिक पेंशन मिलती है।

अपने प्रश्न पूछे
frontpage hit counter