Startup India & Stand Up India Puri Jankari (स्टार्टअप इंडिया)

Startup India Standup India Scheme in Hindi, Startup India Standup india Website, Startup India Loan स्टार्ट अप इंडिया और स्टैण्ड अप इंडिया के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी हिन्दी मे Startup India And Stand Up India Kya Hai Iska Form Kaise Fill Kare.

Startup India Kya Hai

PM Narendra Modi Ji ने 16 January, 2016 को नई दिल्ली में स्टार्ट-अप इंडिया अभियान का शुभारंभ किया। इस अभियान की घोषणा प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त, 2015 को अपने स्वतंत्रता दिवस भाषण में की थी।startup india and stand up india details
यह योजना वस्तुत: नव उघमिता को बढावा देने में सरकार की भूमिका नीति निर्माण तक सीमित रखकर Licence राज से मुक्ति दिलाने सहित भूमि अनुमति, विदेशी निवेश प्रस्ताव, पर्यावरणीय अनुमति जैसे वाधाओं से मुक्ति दिलाने का उद्देश्य लेकर चल रही है।

Update Soon 

  • Startup Kaise Start Kare
  • Startup India Se Kaise Jude
  • Startup India Registration
  • Start-up India Scheme PDF
  • Startup India Essay 
  • स्टार्ट अप इंडिया से कैसे जुडे आदि।

Startup India Details In Hindi

इस स्कीम का लाभ उठाने के लिए स्टार्ट अप का निगमिकरण की तिथि से 7 वर्ष से अधिक का नहीं होना चाहिए जबकि बायोटेक कंपनियों के लिए 10 वर्ष की सीमा रखी गयी है।

  1. इसके साथ ऐसे स्टार्टअप का टर्न ओवर 25 करोड रुपये से कम होना चाहिए।
  2. Startup को वित्तपोषण के लिए एक 10,000 करोड रुपये का Start-Up Fund बनाया गया है।
  3. Startup को पहले तीन साल तक लाभ पर आयकर के भुगतान से छूट दी जाती है।
  4. Startup कारोबारों के लिए पेटेंट शुल्क में 80% तक छूट है और स्टार्ट-अप के लिए 9 श्रम और पर्यावरण कानूनों के वास्ते एक स्व-प्रमाणन आधारित अनुपालन व्यवस्था पेश की है।

Start-UP India Ki Jankari Hindi Me

एकल खिडकी प्रणाली : इस योजना के अंतर्गत अद्यमियो को उनके व्यापार संबंधी सारी मंजूरी एक स्थान पर अर्थात एकल खिडकी द्वारा उपलब्ध कराई जाती है।
स्वप्रमाणिक Compliance : अगर सही और सरल शब्दो मे कहा जाए तो अद्यमियो को सबसे अधिक चिंता इसी बात की रहती है कि अगर कही EPF, Constrol Labor, Payment Of Gratuity, Water Air Pollution की प्रमाणिकता मे अटक गए तो पता नही फिर क्या क्या करना पडेगा। लेकिन Start up India, Stand Up India के अंतर्गत आने वाली कंपनियो को इस चिंता से अगले तीन सालो तक निजात मिल जाएगी क्योकि सरकार ने Start up India के अंतर्गत आने वाली Companies को स्वप्रमाणिकता की इजाजत दे दी है और अगले तीन सालो तक आपकी Company के Compliance को निरक्षण करने के लिए Labor Department से कोई निरीक्षक भी नही आएगा।
Patent Protection : Start up India के अन्तर्गत आप अपने आविष्कार या विचार को संरक्षित अर्थात सुरक्षित रखने के लिए 80% तक कम फीस देकर अपने आविष्कार या विचार का पंजीकरण करवा सकते है।

उद्यमियो को वित्त संबंधी सहायता : Startup India के अंतर्गत एख कोष बनाया गया है, जिसका उद्देश्य उद्यमियो को पूंजी संबंधी सहायता प्रदान करना है। इशमे प्रत्येक वर्ष लगभग 2500 करोड और 4 वर्ष मे 10,000 करोड रुपए आवंटित किए गये है।
व्यापार बंद करना अर्थात कंपनी को बंद करना होगा आसान : अद्ययमियो की चिंता का एक मुख्य कारण यह भी होता है कि उन्होने अगर कोई Company शुरु कर दी औऱ काम अगर चला नही तो उनको उनकी इस हार का जिंदी भर सामना करना पडता है। Start-up India के अंतर्गत भारत सरकार ने Bank Ruptcy Code के नियमो मे कुछ तबदीली कर इश प्रक्रिया को तीव्र गति देने की कोशिश की है। अब जिन उद्यमियो का व्यापार नही चल रहा है, वह 90 दिनो के अन्दर – अन्दर अफने इस व्यापार से आसानी से बाहर निकल सकते है और आगे किसी क्षेत्र मे कोशिश कर सकते है।
Credit Guaranty Fund : इस Fund की रचना नए विचारो वाले उद्यमियो

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

1 Comment
  1. Rishi Kumar says

    Kaushal Vikas Kendra kholne ka kya process hai. kripya step by step jaankari dene ki kripa kare. Dhanyabad

error: कृपया उचित स्थान पर क्लिक करें