Join Telegram GroupJoin Now
WhatsApp GroupJoin Now

UP BAD NEWS : उत्तर प्रदेश वालो के लिए बुरी खबर विभाग का अलर्ट पूरे यूपी के लोग तुरन्त ध्यान दें

स्वास्थ्य विभाग के सामने अभी हाल ही मे एक बडा मामला सामने आया ये तथ्य चौका देने वाले है भारत के कई हिस्सो मे इस वायरस को पहले पाया गया था पर धीरे धीरे इस पर काबू पा लिया गया था पर अभी हाल ही मे उत्तर प्रदेश के प्रयागराज मे पोलियो का नया म्यूटेंट 6 वायरस मिला जिसके बारे मे अभी से WHO और स्वास्थ्य विभाग द्वारा चिन्ता बढा दी है, क्योकी पोलियो बहुत ही खतरनाक बिमारी है, यह सुनने मे आसान और इसके शिकार होने पर बडी भारी समस्या का सामना करना पड सकता है पूरी जिन्दगी भर आइए जानते है, इसके बारे मे की क्या कैसे मिला ये और कैसे बचे।

UP BAD NEWS TODAY
UP BAD NEWS TODAY

पोलियो का म्यूटेंट 6 वायरस मिला

अभी हाल ही मे स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रयागराज मे कुछ मामले पोलियो से दिखे जिसके बाद रिपोर्ट को मंत्रालय मे भेजा गया वहा से WHO की ओर से इसमे कुछ मामला गंभीर लगा जिसके बाद टीम प्रयागराज पहुची फिर प्रयागराज के गऊघाट इलाके से नाले के पानी का सैपल जांच के लिए भेजा गया जिसके बाद पानी मे पोलियो का वायरस मिला बताया जाता है कि रिपोर्ट में पोलियो का म्यूटेंट-6 वायरस मिलने की पुष्टि हुई है। वायरस खतरनाक नहीं होता है और इसका शरीर पर कोई असर नहीं पड़ता है। ऐसा अधिकारियो का कहना है। पर इसका सबसे ज्यादा असर 0 से 5 साल के बच्चे पर तेजी से पडता है।

प्रयागराज मे विभाग का एलर्ट

मामले को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग कल से 6 दिन तक पल्स पोलियो की दवा पिलाई जाएगी पूरे प्रयागराज मे बच्चो के लिए। सभी प्रयागराज शहर वासियो से डाक्टर्स ने निवेदन किया गया है कि पोलियो की दवा अवश्य पिलाएं। इससे जो म्यूटेंट वायरस मिले हैं, वह वैक्सीन वायरस में कन्वर्ट हो जाते हैं। फिर खतरा नहीं रहता है।

यह बात ऊपर प्रदेश सरकार तक पहुची जिसके बाद बैठक मे निर्णय लिया गया की यहॉ 15 साल तक के किसी भी बच्चे को अगर 6 माह मे पालिस, अचानक कमजोरी व शरीर लुंज होने जैसी बिमारी हुई है तो इसकी जानकारी तुरन्त विभाग को दे ताकि समय से पहले जांच कराए जा सके और आने वाले रोग से मुक्त किया जा सके।

कृपया इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें क्योकी समय रहते आपको इसके बारे मे और आपके आस पास के लोगो को पता रहना आवश्यक है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.