UP Board Result 2022 Big Update : यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं रिजल्ट तिथि घोषित इस दिन जारी होगा रिजल्ट जल्द चेक करें

UP Board Result 2022 : युपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं परीक्षा पूर्ण रूप से हो चुकी हैं। जिसमें कि 53 लाख छात्रों छात्राओं ने भाग लिया था। अब जैसे की परीक्षा पूर्ण होने के पश्चात विद्यार्थियों में परिणाम पत्र की उत्सुक्ता बढ़ जाती है, छात्र छात्रायें अपने परिणाम पत्र का इंतजार बेसबरी से कर रहे हैं। जैसा की आपको पका है कि पेपर किस तरह से संपन्न करायें गये हैं। सरकार ने पूरी तरह से नकलचियों और नकलमाफियों पर लगाम लगाने की पूरी कोशिश की थी। इस बार 148 नकलचियों को पकड़ा गया जिसमें से 40 के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई गई । और छात्रों के साथ – साथ इसमें शिक्षक भी शामिल थे, और उनके ऊपर भी कडी से कडी कार्यवाई की गई है।

UP BOARD RESULT 2022 DOWNLOAD

UP Board Result 2022

बहुत से छात्रों ने परीक्षा छोड़ी भी थी, लेकिन जिन्होने पेपर को अन्तिम अंजाम तक पहुँचाया है उनकों अपने परिणाम को लेकर काफी उत्सुकता और थोड़ा चिन्ताए भी है। क्योंकि कुछ पेपरों का स्तर आसान तो कुछ पेपरों का स्तर कठिन आया था। जैसा कि आप लोंगों को पता है कि 10वीं और 12वीं की परीक्षाए 13 अप्रेैल को समाप्त हो चुकी है। इस बार पेपर में सख्ती को चलते करीब साढें चार लाख बच्चों ने पेपर छोड़ दिया था। आपको बता दें कि बोर्ड की तरफ से कापियों का मूल्यांकन 20 अप्रैल के बाद से किया जायेगा। मूल्यांकन की प्रक्रिया पूरी होेने के बाद परिणाम मई के आखिरी सप्ताह या जून के प्रथम सप्ताह में प्रस्तावित है।

UP Board Result Important Point

1-  इस बार की परीक्षा में ये पहली बार हुआ है कि पिछले बर्ष की तुलना में इस बार कम छात्रों ने पेपर दिये है। पिछली बोर्ड परीक्षा में 55 लाख छात्रों ने परीक्षा दी थी लेकिन इस बार 53 लाख के करीब छात्रों ने पेपर दिया था।

2- बोर्ड के इतिहास में ये पहली बार था कि परीक्षाओं का एलान मार्च में किया गया ।

3 – इस बार की बोर्ड परीक्षाओँ में एक नई बात यह देखी गई थी कि परीक्षा निरिक्षकों की ड्यूटी आनलाइन लगाई गई थी।

4-  एक और नई बात जो इस बार हुई है , कक्ष निरीक्षक और उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन के पारिश्रामिक भुगतान की प्रक्रिया भी आनलाइन होगी।

5- कोरोना के चलते इस बार बहुत समय तक कक्षाये संचालित नही की गई थी, जिससे बोर्ड ने छात्रों के स्ट्रेस को कम करने के लिये सामाजिक विज्ञान के कई चैप्टर हटा दिये गये थे।