Ved Kya Hai वेद किसे कहते है, ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद के बारे मे

Hello Students, आज कि इस Post के माध्यम से हम आप को सभी वेदों ऋग्वेद (Rigveda)सामवेद (Samaveda)यजुर्वेद (Yajurveda)अथर्ववेद (Atharvaveda)  के बारे में जानकरी देंगे तथा वेदों से सम्बन्धित किस प्रकार के प्रश्न आते है इसकी एक हमने Test Series भी तैयार की है जिसकी मदद से आप जानकारी ले सकते है।

Ved Puran GK वेद पुराण की पूरी जानकारी हिन्दी में

आर्य के भारत में आक्रमण की जानकारी वेदों से होती है। वेद संस्कृत के विद् धातु से बना है जिसका अर्थ जानना होता है जबकि वेदों का सामान अर्थ ज्ञान से है। वेद को श्रुति भी कहा गया है। लेखनी कला के विकास के पहले वेद को सुनकर ही याद किया जाता था। वेद चार हैं :

  1. ऋग्वेद (Rigveda)
  2. सामवेद (Samaveda)
  3. यजुर्वेद (Yajurveda)
  4. अथर्ववेद (Atharvaveda)

ऋग्वेद (Rigveda)

सबसे प्रचीन वेद ऋग्वेद है इसकी रचना लगभग 1500 से 1200 ईसापूर्व संभवत: गंगा एवं यमुना के तटीय मैदान में हुई। वेदों की रचना ऋषि कुल तथा उस समय के विदुषी महिलाओं के द्वारा किया गया। वेदों की रचना में योगदान विश्वामित्र, रामदेव, अगस्त ऋषि, भारद्वाज तथा उनकी वंशजों ने दिया तथा महिलाओं में लोपामुद्रा, विश्व तारा, बाला तथा भोसा प्रमुख है। ऐसा माना जाता है कि लगभग 12 ऋषि कुलों के द्वारा इसकी रचना की गई।

सामवेद (Samaveda)

ऋग्वेद के बाद सामवेद का स्थान आता है। सामवेद से ही संगीत का विकास हुआ है। साम का अर्थ लय या ताल होता है। सामवेद में वेद में 18010 ऋचाएँ है। सामवेद पद्य में लिखा गया है। सामवेद का गायन सोमयज्ञ के समय उद्गाता करते थे। इस वेद के चार ब्रह्मण है, पंचवीस, षडविष, जेमिनीय तथा क्षादोग्य। पंचवीस को तांड महाब्रह्मण कहते हैं। इस ब्रह्मण में यज्ञ अनुष्ठान का वर्णन है। जैमिनीय ब्राह्मण को तलवकार ब्राह्मण कहते हैं।

यजुर्वेद (Yajurveda)

तीसरा स्थान यजुर्वेद का आता है यह कर्मकांड का वेद है इसे गद्य और पद्य दोनों में लिखा गया है इसके रचनाकार महर्षि पतंजलि के ऋषि कुल द्वारा किया गया। यजुर्वेद की दो शाखाएं हैं कृष्ण यजुर्वेद और शुक्ल यजुर्वेद। कृष्ण यजुर्वेद के चार संहिता हैै तथा शुक्ल यजुर्वेद का केवल एक संहिता है। कृष्ण यजुर्वेद में यज्ञ विधान का वर्णन है जबकि शुक्ल यजुर्वेद में प्रार्थना का वर्णन है। शुक्ल यजुर्वेद के महत्वपूर्ण शतपथ ब्रह्मण है और कृष्ण यजुर्वेद के तेत्रेय ब्रह्मण है।

अथर्ववेद (Atharvaveda)

चौथा वेद अथर्ववेद है इसके रचनाकार अथर्वा ऋषि थे। इसके 20 भाग तथा 711 सूक्त और 600 मंत्र है। अर्थवेद का महत्वपूर्ण ग्रंथ गोपथ है। अथर्व वेद में कर्मकांड, जादू टोना, रोग निवारण तथा जन्म-मरण का वर्णन है।

वेद पुराण सामान्य ज्ञान GK

📝निम्नलिखित वैदिक साहित्य जहां वर्णा प्रणाली पर चर्चा हुई थी?

  1. ऋग्वेद
  2. सामवेदा
  3. यजुर्वेद
  4. अथर्ववेद
Show Answer
Correct Answer :ऋग्वेद 

📝निम्नलिखित में से कौन सा वैदिक साहित्य गायत्री मंत्र है?

  1. ऋग्वेद
  2. सामवेदा
  3. यजुर्वेद
  4. अथर्ववेद
Show Answer
Correct Answer :ऋग्वेद 

📝सबसे पुराना वेद कौन सा है?

  1. सम वेद
  2. यजूर वेद
  3. अथर्व वेद
  4. ऋग्वेद
Show Answer
Correct Answer :ऋग्वेद 

📝उपनिषद किताबें हैं: –

  1. धर्म
  2. योग
  3. कानून
  4.  फिलॉसफी
Show Answer
Correct Answer :फलॉसफी

📝में से कौन सा गायत्री मंत्र शामिल है

  1. ऋग्वेद
  2. यजूर वेद
  3.  उपनिषद
  4.  सम वेद
Show Answer
Correct Answer :ऋग्वेद

📝वैदिक सोसाइटी में, परिवारों के समूह को दर्शाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द था?

  1. गोट्रा
  2.  जन
  3. विश
  4.  ग्रामा
Show Answer
Correct Answer :ग्रामा

📝योग दर्शन का विस्तारक है

  1. पतंजलि
  2. गौतम
  3. जैमिनी
  4. शंकरचार्य
Show Answer
Correct Answer :पतंजलि

📝निम्नलिखित में से कौन सा वैदिक साहित्य बलिदान सूत्रों का संग्रह है?

  1. ऋग्वेद
  2. सामवेदा
  3. यजुर्वेद
  4. अथर्ववेद
Show Answer
Correct Answer :अथर्ववेद 

📝निम्नलिखित में से कौन सा वैदिक साहित्य ‘पैर के पास बैठने’ को संदर्भित करता है?

  1.  वेदंगास
  2. उपनिषद
  3. अरन्यकाश
  4. ब्राह्मणों
Show Answer
Correct Answer :उपनिषद

📝निम्नलिखित वैदिक साहित्य में से कौन सा वैदिक भजन, उनके अनुप्रयोगों और उनकी उत्पत्ति की कहानियों के अर्थों के बारे में विवरण शामिल है?

  1.  वेदंगास
  2. उपनिषद
  3. अरन्यकाश
  4. ब्राह्मणों
Show Answer
Correct Answer :ब्राह्मणों

Students, हमारी यह Post ” Ved GK Questions in Hindi ”आपको कैसी लगी लगी आप हमें Comment के माध्यम  से आप बता सकते है। और जो कुछ भी आप को और जरूरत हो इसके लिए भी आप हमें Comments कर सकते है।

क्या आप Students है, और किसी प्रतियोगी परीक्षा तथा अन्य परीक्षाओ की तैयारी करते है, तो हमारा New App जरुर Download करे केवल एक App मे सबकुछ उपलब्ध।

Download Our App Click Here

Disclaimer: किसी प्रकार की शिकायत के लिए हमे Mail करें [email protected] या हमारी Privacy Policy पढे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: कृपया उचित स्थान पर क्लिक करें