Bank News : किसी भी बैंक मे खाता है तो जानले 1 अप्रैल से 5 नए नियम लागू होगे बडे झटके से बचे

Bank News : सभी बैंक खाता वालों के लिए पांच बड़े अपडेट नए नियम जो 1 अप्रैल 2024 से ही लागू होने जा रहे हैं पैसों से जुड़े ये पांच नए नियम 1 अप्रैल से ही बदल जाएंगे नए फाइनेंशियल ईयर के साथ ही आइए एक-एक करके सभी अपडेट देख लेते हैं, जिससे आपको समस्या का सामना न करना पडे ऐसे मे बडी संख्या मे लोगो को इस इन सभी जरुरी सूचनाओ पर नजर बनाकर रखना आवश्यक है, नही बाद मे पछताना पड सकता है।

bank latest new rules`
bank latest new rules

Bank News

नया नियम देखिए भारतीय रिजर्व बैंक RBI ने बड़ी राहत दी है, अब से निष्क्रिय खातों पर नहीं लगेगा यह चार्ज 1 अप्रैल से लागू होगा यह नया नियम निष्क्रिय खाता यानी कि किसी बैंक में आपका अकाउंट है और व बंद पड़ा हुआ है आप उसमें लेनदेन नहीं कर रहे हैं तो ऐसे बैंक खाता वालों को आरबीआई ने बड़ी राहत दी है अभी आपको पता होगा निष्क्रिय पड़े खातों पर भी मिनिमम बैलेंस मेंटेन ना रखने पर बैंक जो वो आप पर चार्जेस लगाते रहते हैं जुर्माना लगाते रहते हैं 1 अप्रैल के बाद डीएक्टिवेट या निष्क्रिय पड़े बैंक खातों पर मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर भी कोई जुर्माना नहीं लगाया जा सकता है रिजर्व बैंक का कहना है कि अगर आपने अपने खाते से लगातार 2 सालों तक कोई भी लेनदेन नहीं किया है और वो खाता अगर निष्क्रिय हो गया है तो उस पर किसी तरह का मिनिमम बैलेंस मेंटेन रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी अब बैंक चार्ज नहीं लगा सकेंगे।

बैंको के लिए नया नियम

स्कॉलरशिप वाले जो खाते हैं, स्टूडेंट, छात्र छात्राओं के लिए छात्रवृति जो बैंक अकाउंट होते हैं उन पर भी बैंक मिनिमम बैलेंस मेंटेन चार्जेस नहीं लगा सकेंगे।

नया नियम देखिए बैंक लोन डिफॉल्ट पर पेनल्टी से जुड़े ये नए नियम भी 1 अप्रैल से लागू होने जा रहे हैं जिससे बैंक कस्टमर ग्राहकों को बड़ी राहत मिलने वाली है बैंक या जो एनबीएफसी होती है नॉन बैंकिंग फाइनेंसियल कंपनीज उनसे अगर आपने लोन लिया हुआ और वो अगर डिफॉल्ट हो जाता तो उस पर जुर्माने से जुड़ा ये नियम भी 1 अप्रैल 2024 से लागू होने जा रहा है और इस नियम में आरबीआई ने एक प्रावधान रखा है कि सिर्फ उचित डिफॉल्ट चार्ज ही लगा सकेंगे बैंक।

अगर कोई बैंक लोन लेने वाला ग्राहक डिफॉल्टर घोषित हो जाता है तो उस पर भी अब पेनल्टी या मनमाने चार्जेस बैंकों द्वारा नहीं लगाए जाएंगे आरबीआई का कहना है कि दंडात्मक शुल्क को तर्क संगत होना होगा जानबूझकर डिफॉल्ट करने वालों की तो फिर खैर नहीं उन पर ज्यादा चार्जेस लगेंगे जो अगर जानबूझकर बैंक लोन को डिफॉल्ट कर रहे हैं तो भारतीय रिजर्व बैंक ने यह भी कहा है कि जून तक आने वाली रिन्यूअल तारीख पर नई दंड शुल्क व्यवस्था में बदलाव सुनिश्चित किया जाएगा।

RBI का नया नियम 1 अप्रैल से लागू

आरबीआई लेकर आया बिल पेमेंट के भी नए नियम ये भी 1 अप्रैल 2024 से लागू होने जा रहे हैं, भारतीय रिजर्व बैंक आरबीआई ने बिल पेमेंट की प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने भागीदारी बढ़ाने और ग्राहक सुरक्षा तय करने के लिए यह रिवाइज्ड मानदंड जारी किए हैं और यह निर्देश 1 अप्रैल 2024 से सभी बैंकों एनपीसीआई भारत बिल पे लिमिटेड और अन्य नॉन बैंकिंग पेमेंट सिस्टम पर लागू होंगे।

आरबीआई का कहना कि यह जो नियम है यह पेमेंट की प्रक्रिया को आसान बनाने सुव्यवस्थित और बेहतर तरीके से कस्टमर को सुविधा उपलब्ध कराने के लिए नियम लागू किए जा रहे हैं बैंकिंग सुविधा देने वाले यूपीआई एप्स हो गए सभी बैंक वगैरह के लिए भी अब नई गाइडलाइंस इस सिस्टम के द्वारा तय की जाएगी।

1 अप्रैल से फिन केयर स्मॉल फाइनेंस बैंक की सारी ब्रांचेज एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक की शाखाओं के रूप में कार्य करेगी क्योंकि इन दोनों का मर्जर होने जा रहा है ये फिन केयर स्मॉल बैंक जो है ये एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक में मर्ज हो जाएगा।

SBI और NPS मे बडा बदलाव

भारतीय स्टेट बैंक एसबीआई ने करोड़ों क्रेडिट कार्ड को बड़ा झटका दिया है 1 अप्रैल से यह नया नियम लागू होने जा रहा एसबीआई क्रेडिट कार्ड से जुड़े कई सारे बड़े बदलाव होंगे जिसके चलते अब ग्राहकों को कुछ सुविधाओं का फायदा नहीं मिलेगा तो दरअसल वो नियम यह है कि एसबीआई अप्रैल 2024 के बाद से ही कई सारे क्रेडिट कार्ड से रेंट पेमेंट करने पर कोई रिवर्ड पॉइंट अब नहीं देगी जो पहले रिवार्ड पॉइंट मिलते थे वो अब नहीं मिलेंगे।

एनपीएस में सीआरए में लॉगिन करने के लिए आधार ओटीपी वेरिफिकेशन अनिवार्य होगा और इससे अनऑथराइज्ड एक्सेस का रिस्क कम होगा आपका ट्रांजैक्शन ज्यादा सुरक्षित होगा सभी एनपीएस खाताधारकों और कर्मियों के लिए 1 अप्रैल से ही यह लॉगिन सिस्टम बदलने जा रहा है।

Follow Google News Click Here
Whatsapp Group Click Here
Youtube Channel Click Here
Twitter Click Here

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.